Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Header Ad

Breaking News

latest

मिट्टी के कुल्हड़ और हमारा स्वास्थ्य

 मिट्टी के कुल्हड़ और हमारा स्वास्थ्य आमतौर पर कुल्हड़ ग्रामीण इलाकों और छोटे शहरों में बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। लोगों का कहना भी ह...

 मिट्टी के कुल्हड़ और हमारा स्वास्थ्य


आमतौर पर कुल्हड़ ग्रामीण इलाकों और छोटे शहरों में बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। लोगों का कहना भी है की इसमें चाय पीने का मजा ही अलग है और इसमें चाय पीने से उसमें मिट्टी की खुशबू जुड़ जाती है जो उसके स्वाद को और बढ़ा देती है।


कुल्हड़ में दूध, चाय, काफी, लस्सी पीना बाकी अन्य तरीकों की तुलना में काफी ज्यादा फायदेमंद है। कई शहरों में दुकानों पर प्लास्टिक, स्टील या फोम के कप इस्तेमाल किये जाते हैं जिससे कई तरह के नुकसान होते हैं।


1--फोम के कप से नुकसान :--

कई जगह दुकानों पर या शादियों में लोग चाय , काफी के लिए फोम के कप का इस्तेमाल करते हैं। ये पॉलीस्टीरीन से बने होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए बहुत ज्यादा नुकसानदायक है।

जब इसमें चाय या काफी डालते हैं तो इसके कुछ तत्व घुलकर पेट के अंदर चले जाते हैं जिससे आगे चलकर कैंसर का खतरा भी हो सकता है और थकान, ध्यान में कमी, अनियमित हार्मोनल बदलाव के अलावा और भी कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। 


कुल्हड़ पर्यावरण मित्र होते हैं:

प्लास्टिक या फोम के गिलास स्वास्थ्य के साथ साथ पर्यावरण के लिए भी नुकसानदायक हैं। जबकि कुल्हड़ पूरी तरह से इको फ्रेंडली हैं। इसे जैसे ही नष्ट करते हैं वे कुछ ही दिनों में मिट्टी में घुल जाता है।


अन्य फायदे:----


मिट्टी के बर्तनों का स्वभाव क्षारीय होता है जिस वजह से ये शरीर के अम्लीय स्वभाव में कमी लाते हैं। इसके अलावा मिट्टी के कपों में और भी बहुत सारे गुण है। 


इसलिए  इनमें दूध, चाय, काफी या लस्सी कुछ भी पी सकते हैं। और कुल्हड़ में चाय पीने से स्वाद और पौष्टिकता दोनों बढ़ जाती है।


सबसे ऊपर मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कुम्हार भाइयों एवम् उनके परिवार की कुछ अच्छी आमदनी हो जाती है 

सादर आभार,वैदिक_रसोई


No comments